Sunday, 5 April 2020

पाठ 16 कोई नहीं बेगाना

1 comments


पाठ 16          कोई नहीं बेगाना

3. 
इन प्रश्नों के उत्तर एक या दो वाक्य में लिखें:

1. 
भाई कन्हैया कौन था?
उत्तर: 1.  उत्तर: 2.  भाई कन्हैया गुरु घर का एक सेवादार थाl



2. 
वह  घायलों की सेवा किस प्रकार करता था?
उत्तर: 2.  भाई कन्हैया में जल भरकर सभी भाइयों को जल पिलाकर घायलों  की सेवा करता थाl

3. 
वह अपने और बेगाने का भेदभाव क्यों नहीं करता था?
उत्तर: 3.  भाई कन्हैया अपने और बेगाने में भेदभाव इसीलिए नहीं करता था क्योंकि वह सभी में ईश्वर की झलक  देखता थाl

4. 
विरोधियों ने दशमेश पिता से उसकी क्या शिकायत की?
उत्तर: 4.  विरोधियों ने दशमेश पिता से कहा कि भाई कन्हैया शत्रुओं से मिला हुआ है इसीलिए तो जिन्हें हम कठिनाई से मारते हैंl भाई कन्हैया उन्हें पानी पिलाकर प्राण दान देता हैl

5. 
भाई कन्हैया ने गुरुजी को शिकायत का क्या उत्तर दिया?
उत्तर: 5.  भाई कन्हैया ने गुरु जी को उत्तर दिया कि वह  तो गुरबाणी का एक ही अर्थ समझता है कि सभी में एक ही परमात्मा  बसा हैl कोई भी अपना और बेगाना नहीं हैl यही कारण है कि वे सभी में केवल दशमेश पिता आपको ही देखता हैl

6. 
गुरुजी ने भाई के कन्हैया को मरहम क्यों दी?
उत्तर: 6.  गुरुजी ने भाई कन्हैया को मरहम इसलिए दी क्योंकि वे बिना किसी भेदभाव के सभी घायलों की सेवा में लगा हुआ हैl

4. 
इन काव्य पंक्तियों की प्रसंग व्याख्या करें:

"
अव्वल अल्ला नूर वही है
कुदरत के सब बंदे,
सब जग फैला नूर उसी का
कौन भले कौन मंदेl" 
व्याख्याकवि कहता है कि भाई कन्हैया गुरुजी से कहता है कि सर्वप्रथम ज्योति भगवान (अल्ला) ही है सभी व्यक्ति प्रकृति की  उपज है सारे संसार में उचित परमात्मा की ज्योति फैली हुई है सब समान है कोई अच्छा या बुरा नहीं हैl