Wednesday, 7 October 2020

पाठ 06 नील गगन का नीलू

0 comments

पाठ – 6       नील गगन का नीलू


1). 
इन प्रश्नों के उत्तर एक या दो वाक्य में लिखिए :-

1. 
नीलू का पूरा नाम क्या था ?
उत्तर : नील गगन का पूरा नाम  सकाड्न लीडर अनिल शर्मा उर्फ था |

2. 
बचपन से ही उसकी रुचि फ्लाइंग में क्यों हो गई ?
उत्तरनीलू के खिलौने में केवल वायुयान ही होते थे | पिता हरि प्रकाश शर्मा वायु सेना में सार्जेणट के थेइसलिए नीलू की रुचि फ्लाइंग में होना स्वाभाविक ही था |

3. 
उड़ते हुए वायुयान को देखकर वह मन ही मन क्या  सोचता ?
उत्तरवह घंटों आकाश में उड़ते जहाजों को देखते और मन ही मन  बुदबुदाता था |

4.   
उसने पायलट का  प्रशिक्षण कहां से लिया ?
उत्तरउसने बिदर में पायलट का परीक्षण लिया था |

5. 
उसने किन-किन क्षेत्रों में देश की सेवा की ?
उत्तरअनिल ने अपने अल्प कार्यकाल में ही देश के विभिन्न क्षेत्रों में देश सेवा  की | जिसमें भारत, गुजरात, राजधानी दिल्ली है |

6. 
उसे किस प्रकार के कार्यों में रूचि थी ?
उत्तरउसे देश की सेवा करने में रुचि थी | वह बचपन में ही पायलट बनने के सपने देखता था | वे आसमान में उड़ते जहाजों को  देखकर बुदबुदाता था |

7.  12
नवंबर, 2000 को भारतीय तट रक्षा बल ने पश्चिमी सीमा पर क्या देखा ?
 
उत्तर :  12 नवंबर 2000 को भारतीय तट रक्षा हेतु  तैनात भारतीय सुरक्षा बल ने  सतर्कता दिखाई | उन्होंने पाकिस्तानी मछुआरों की  किशितयां  देखी जो कि भारत की सीमा में दाखिल होने को थी |

8. 
पाकिस्तानी मछुआरों ने किसे अपना निशाना बनाया ?


9.  26
नवंबर, 2009 को ऐसी ही घुसपैठ किस स्थान पर हुई ?

उत्तर :  26 नवंबर 2009 को ऐसी ही घुसपैठ मुंबई स्थान पर हुई |


2).
इन प्रश्नों   के उत्तर चार या पांच वाक्य में लिखिए :-

1. 
किन- किन घटनाओं से पता चलता है कि अनिलशर्मा असाधारण प्रतिभा के  स्वामी थे ?

उत्तरअनिल ने अपने अल्प कार्यालय में देश के विभिन्न क्षेत्रों में  देश सेवा की | जिसने भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र में एक बार नक्सली इलाके से गुजरते हुए गोली हेलीकॉप्टर को लगने ही वाली थी कि अनिल ने अपनी बुद्धिमता एवं चातुर्य से उसे ऐसा मोड़ा कि वह गोली हवा होकर रह गई | गुजरात के दलदलीय कच्छ क्षेत्र में वर्ष 1999 में पाकिस्तान द्वारा यू .एम. बी. जिसका नाम एटलान्टिक था, भारत की  ओर छोड़ाअनिल ने अपनी टीम के साथ मिलकर शत्रु के नापाक इरादों को असफल कर दिखाया |  26 जनवरी 2000 को उन्होंने राजधानी दिल्ली में होने वाले गणतंत्र दिवस की परेड में हेलीकॉप्टर के द्वारा  अपने कोतुक का परिचय दिया कि किस प्रकार एक पायलट लोगों की जान बचाने में समक्ष हैजमीन पर सैनिकों से भरी जीप को हेलीकॉप्टर द्वारा ऊपर  उठाकर कहीं और सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने का कर्तव्य सकाड्न लीडर अनिल शर्मा ने जब करके दिखाया तब देखने वाले दंग रह गये | तत्पश्चात ऊपर से फूलों की वर्षा ने तो दर्शकों को मंत्र- मुग्ध कर दिया | यह सब घटना द्वारा पता चलता है कि अनिल शर्मा असाधारण प्रतिभा के स्वामी थे |
2. 
किस घटना से पता चलता है कि उनमें पूरा आत्मविश्वास था ?

उत्तर :   12 नवंबर 2000 को भारतीय तटरक्षक हेतु तैनात भारतीय सुरक्षा बल ने सतर्कता दिखाई | उन्होंने पाकिस्तानी मछुआरों की किशितयां देखी जो कि भारत की सीमा में दाखिल होने को थी | इस दखलअंदाजी को जांचने के लिए उच्चस्तरीय टीम को लेकर सकाड्न लीडर अनिल शर्मा ने ज्यों ही उड़ान भरी त्यों ही पाकिस्तानी सैनिकों ने मछुआरों के भेष में  मिसाइल फेंकी | दुर्भाग्यवश  वह मिसाइल  उस हेलीकॉप्टर  को जा लगीजिसमें अनिल समेत दल के 12 अधिकारी थे | तभी यह हेलीकॉप्टर  बल खाता हुआ कच्छ की दलदल में जा गिरा | इन वीरों ने जख्मों से रिसते रक्त और उन पर तेजाब का काम करता नमकीन पानी अगली सुबह तक  सात अधिकारियों को मौत की नींद सुला चुका था | इस घटना से पता चलता है कि अनिल शर्मा में  पूरा आत्मविश्वास था |